अर्शदीप को पाकिस्तानियों ने बनाया खालिस्तानी तो एक्शन में आयी मोदी सरकार,जानिये पूरा मामला

0
1599

पाकिस्तान के खिलाफ तेज गेंदबाज Arshdeep Singh की एक गलती से सोशल मीडिया पर मचा हुआ है बवाल…आसिफ़ अली का एक कैच छोड़ने के बाद Arshdeep को लोगों ने माना हार का मुजरिम और किए कई तरह के आपत्तिजनक कमेंट्स..वही इसी मौके की फिराक में बैठे पड़ोसी मुल्क से भी Arshdeep के खिलाफ चलनी शुरू हो गई है propaganda.. इसी बीच अब एक नया विवाद हो चुका है खड़ा और यह विवाद जुड़ा है गूगल की Wikipedia website के साथ जिनके खिलाफ अब IT मंत्रालय ने भी कड़ा रुख अपनाते हुए लीगल एक्शन लेने की बात कह दी है.. क्या है पूरी खबर और It मिनिस्ट्री को इस विवाद में क्यूँ करना पड़ा है हस्तक्षेप जानने के लिए देखिए हमारी ये रिपोर्ट…

एशिया कप 2022 के सुपर 4 मुकाबले में रविवार को पाकिस्तान ने भारत को 5 विकेट से हरा दिया.. और इस मैच में रोमांचक मोड़ पर भारत के युवा तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह से एक बड़ी चूक देखने को मिली..दरअसल पाकिस्तानी बल्लेबाज आसिफ अली का एक बेहद आसान सा कैच Arshdeep छोड़ बैठे.. जिसके बाद उन्होंने अगले over में Bhuvaneshwar को 19 रन मारे और आखरी ओवर में पाकिस्तान मुकाबला 5 विकेट से जीत गया इस मुकाबले के बाद सोशल मीडिया पर जैसे आग सी लग गई अर्शदीप सिंह ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए और एक ड्रॉप कैच को लेकर अर्शदीप की जमकर आलोचना होनी शुरू हो गई… अर्शदीप को सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया गया और अभी भी लगातार किया जा रहा है.. इसी बीच मौके की आड़ में पाकिस्तान से कुछ लोगों ने अलग-अलग फेक अकाउंट बनाकर भारतीय गेंदबाज पर निशाना साधना शुरू कर दिया है.. और उनके खिलाफ एक अलग प्रोपेगेंडा चलाने लगे हैं…. Fake अकाउंट का ईस्तेमाल कर पड़ोसी मुल्क से Arshdeep को target किया जा रहा है और उन्हें खालिस्तान बताकर उनके खिलाफ आपत्तिनजक चीजें बोली जा रही है… In sabke बीच ab भारत के it मंत्रालय को भी इस पूरे मामले में हस्तक्षेप करना पड़ गया है..

दरअसल मैच के अहम मौके पर कैच छोड़ने को लेकर अर्शदीप सिंह को सोशल मीडिया पर तो जमकर ट्रोलिंग मिल ही रही है.. लेकिन कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार गूगल की वेबसाइट विकिपीडिया पर अर्शदीप सिंह के पेज पर बड़ा बदलाव नजर आया है और वहां उनके इंफो में अर्शदीप का ‘खालिस्तानी’ संगठन से संबंध जोड़कर चीजे बताई जा रही हैं.. इसपर अब पूरे मामले में भारत सरकार ने भी कड़ा रुख अपनाया है और आईटी मंत्रालय ने विकिपीडिया के खिलाफ मामले को लेकर समन जारी करते हुए उन्हें नोटिस भेजा है और उनसे जवाब तलब किया है…फिलहाल के लिए विकिपीडिया ने अर्शदीप के प्रोफाइल को ठीक कर दिया है.. लेकिन इस तरह की हरकत से उन्होंने अपने लिए मुश्किलें बढ़ा दी हैं..

रिपोर्ट्स के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी मंत्रालय ने आज विकिपीडिया के अधिकारियों को यह बताने के लिए तलब किया कि कैसे क्रिकेटर अर्शदीप सिंह को लेकर फर्जी जानकारी वेबसाइट पर प्रकाशित की गई है.. रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र का मानना है कि इस तरह की गलत सूचना सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ सकती है और क्रिकेटर के परिवार के लिए भी खतरा पैदा कर हो सकती है.. आपको बता दें इस पूरे मामले में एक उच्च-स्तरीय पैनल विकिपीडिया अधिकारियों से पूछताछ कर सकता है और कारण बताओ नोटिस भी जारी कर सकता है..

बता दें भारत पाकिस्तान मुकाबले के बाद अर्शदीप सिंह के विकिपीडिया पेज पर कई जगहों पर “भारत” शब्द को “खालिस्तान” से बदल दिया गया था.. हालांकि विकिपीडिया के एडिटर्स ने इसे 15 मिनट के अंदर ठीक कर दिया था.. चूंकि विकिपीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जिसे कोई भी एडिट कर सकता है.. ऐसे में इसकी भी संभावना को नकारा नहीं जा सकता है कि यह हरकत एक agenda के tahat कुछ लोगों ने भारतीय क्रिकेटर के खिलाफ चलाया हो.. लेकिन इससे कहीं ना कहीं विकिपीडिया की सिक्योरिटी और privacy feature पर भी सवाल खड़े होने लाजमी बन गए हैं… इस बीच हरभजन सिंह समेत पूर्व क्रिकेटर्स इस युवा गेंदबाज के समर्थन में उतर आए हैं..और ट्वीटर के जरिए भारत के युवा गेंदबाज का मनोबल बढ़ाने का पूरा प्रयास किया है..

वैसे दोस्तों यह पहला बार नहीं है जब किसी भारतीय क्रिकेटर को इस तरह की परिस्थितियों के साथ गुजरना पड़ा है आज से 1 साल पहले T20 वर्ल्ड कप 2021 के दौरान जब पाकिस्तान की टीम ने भारत को 10 विकेट से हराया था तब वहां पर भारत की हार का पूरा ठीकरा सिर्फ इकलौते मोहम्मद शमी के ऊपर फोड़ कर कुछ लोगों ने उन्हें निशाना बनाया था.. शमी के खिलाफ कई तरह के अपमानजनक कमेंट किए गए थे और दोनों देशों के कुछ असामाजिक तत्वों ने मोहम्मद शमी को फेक अकाउंट बनाकर ट्विटर पर उन्हें पाकिस्तानी तक कहना शुरू कर दिया था.. और तब भारतीय टीम के पूर्व कप्तान विराट कोहली ने मीडिया में आकर अपने गेंदबाज का बचाव किया था और उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे लोगों की बोलती बंद कर दी थी.. विराट ने तब यह साफ कर दिया था कि टीम shami के साथ है और बाहरी चीजों पर उनका कोई ध्यान नहीं है..

Virat ने ऐसे लोगों पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा था कि ‘कुछ लोग अपनी पहचान छुपाकर ऐसे करते हैं, क्योंकि उन्हें सामने आने की हिम्मत नहीं है. सभी को अपने विचार रखने की आजादी है, लेकिन मजहब को सामने लाना दुर्भाग्यपूर्ण हैं, ये सबसे गिरी हुई हरकत है. धर्म बेहद निजी मामला है.. हम एक अच्छे मकसद के साथ मैदान पर खेलते हैं, न कि कुछ डरपोक लोगों की वजह से जो सोशल मीडिया पर हैं और उन्हें जरा भी हिम्मत नहीं है कि वो असल में सामने आएं और उस शख्स से नजरें मिलाकर बात कर सकें.’..

तो कुल मिलाकर बात साफ है जब भी ground के बाहर ऐसी घटनाएँ घटती हैं यह एक propaganda और fake agenda के tahat cricketers की इमेज ख़राब करने की साजिश होती है और ऐसे में तब यह जरूरी बन जाता है कि Management उस खिलाड़ी को तब कितना backing देती है.. अभी Arshdeep को लेकर जो भी बातें कहीं जा रही है एक अच्छा प्रदर्शन in सभी बातों पर पूर्ण विराम लगा सकता है और भारतीय fans भी इस बात की पूरी उम्मीद कर रहे होंगे कि युवा तेज गेंदबाज in सबसे ऊपर उठकर आने वाले मुकाबलों में अपने प्रदर्शन से सभी की बोलती बंद करने में कामयाब रहे…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here