Watch Video : ऐतिहासिक शतक लगाकर भारत को जीत दिलाने वाले ऋषभ पंत कभी गुरुद्वारे में गुजारा करते थे रात

0
1318

क्रिकेट फील्ड पर अपने विस्फोटक अंदाज के लिए मशहूर है यह विकेटकीपर बल्लेबाज..अपनी बल्लेबाजी से कुछ ही घंटों में मोड़ देता है मैच का रुख… टेस्ट मैच में रह चुका है भारत का मैच विनर और अब odi’s में भी खेली है ऐसी ऐतिहासिक पारी जिसने उन्हें इस format में भी दिलवा दिया है मैच winner का टैग… जी हां दोस्तों हम बात कर रहे हैं भारत के स्टार विकेटकीपर batter ऋषभ पंत की.. जो दिन पर दिन क्रिकेट फील्ड पर ऐसे बड़े बड़े करिश्मे आसानी से कर जाते हैं कि वह इतिहास के स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज होकर रह जाता है… हालांकि एक समय था जब धोनी की छत्रछाया में यह खिलाड़ी कड़ी मेहनत किया karta था, लेकिन जब से एमएस ने क्रिकेट से रिटायरमेंट ली है तब से ऋषभ पंत भारतीय टीम के नए उभरते हुए सितारे बनकर सामने आए हैं.. तो आइये दोस्तों इस वीडियो में हम आपको बताते हैं कैसे ऋषभ पंत ने इतनी कम उम्र में ही वर्ल्ड क्रिकेट में अपनी ऐसी पहचान बना ली है कि अब हर बच्चे बच्चे की जुबां पर है पंत का नाम.

टीम इंडिया के स्टार विकेट keeper ऋषभ pant ने under-19 के दिनों में ही अपने आक्रमक अंदाज की बल्लेबाजी से काफी सुर्खियां बटोरी थी और जब भारतीय टीम और ipl में खेलने का मौका मिला तो धीरे-धीरे एक सीनियर खिलाड़ी और लीडर के तौर पर evolve होते चले गए.. 8 October, 1997 को जन्मे pant का क्रिकेट प्रेम बचपन से ही था.. पंत बचपन से ही शांत स्वभाव के थे, इसीलिए कभी किसी चीज़ को पाने की zid नहीं करते, लेकिन कभी-कभी पूरे दिन क्रिकेट खेलने के लिए घरवालों की डांट जरूर सुन जाया करते थे.. अपने इसी सपने को साकार करने और प्रोफेशनल क्रिकेट सीखने लिए ऋषभ ने ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था.. बचपन में ही उन्होंने उत्तराखण्ड में अकैडमी जॉइन कर ली थी लेकिन फिर बाद में अपने कोच की सलाह पर राजस्थान चले गए..

राजस्थान पहुंचकर pant ने अंडर 14 और अंडर 16 में शानदार प्रदर्शन करना शुरू किया.. लेकिन वहाँ फैले भेद-भाव के कारण ऋषभ को राजस्थान छोड़कर दिल्ली आना पड़ा.. तब ऋषभ की मुलाकात भारत के सर्वश्रेष्ठ कोचों में से एक तारक मेहता से हुई, जो दिल्ली में ही खिलाड़ियों को क्रिकेट सिखाया करते थे ऋषभ ने फॉरेन उनकी अकैडमी जॉइन करी और तारक मेहता की निगरानी में कोचिंग लेना शुरू कर दिया, तारक ने उनकी विकेट कीपिंग को देखा और बहुत प्रभावित हुए लेकिन तारक उन्हें एक अच्छे विकेटकीपर के साथ एक अच्छे बल्लेबाज़ भी बनाना चाहते थे इसलिए तारक ने ऋषभ को एडम गिलक्रिस्ट की batting की बहुत विडियो दिखाई..

बस फिर क्या था ऋषभ ने भी अपने कोच की सुनी और गिलक्रिस्ट की वीडियो देखकर प्रभावित होते गये. उन्होंने उन्ही की तरह बल्लेबाज़ी करना शुरू कर दी.. जिसके बाद pant अपनी विस्फोटक बल्लेबाज़ी की वजह से काफी मशहूर होते चले गए.. उनका सिलेक्शन दिल्ली की रणजी टीम में हो गया जहाँ उनके अंदर छुपी काबिलियत को देखकर मौजूदा टीम के हेड कोच राहुल द्रविड़ इतने ज्यादा प्रभावित हुए कि उन्हें अंडर-19 भारतीय टीम में शामिल कर लिया गया.. 2016 के अंडर-19 वर्ल्डकप में ऋषभ पंत ने 267 रन बनाए और भारत के दुसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने.. यहां दिल्ली फ्रेंचाइजी की najar पंत पर पड़ गई, 2016 के ipl में दिल्ली की टीम ने pant को 10 लाख की base price se बढ़कर 1.9 करोड रुपए में पंत को खरीद लिया.. उसी दिन पंत ने वर्ल्ड कप में शानदार शतक लगाकर ipl selection को celebrate किया..

Rishabh Pant motaher Saroj Pant

फिर 2016-17 के रणजी सीजन में महाराष्ट्र के खिलाफ 308 रन बनाकर pant सबसे कम उम्र में 13 शतक जड़ने वाले तीसरे खिलाड़ी बन गए, उसी सत्र में उन्होंने सिर्फ 48 गेंद में शतक भी लगाया और अचानक से सिलेक्टरों की नजरों में आ गए थे.. जिसके बाद उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ भारत की t-20 टीम में भी शामिल कर लिया गया, यही से उनके अंतराष्ट्रीय करियर की शुरुआत हुई.. हालांकि शुरुआती कुछ साल अच्छे नहीं बीते, लेकिन डोमेस्टिक क्रिकेट में लगातार शानदार प्रदर्शन करने के चलते पंत को 2018 में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट डेब्यू करने का मौका मिला और फिर वेस्टइंडीज के खिलाफ ही पंत ने अपना ओडीआई डेब्यू भी किया,.. और उसी साल आईपीएल में बड़े-बड़े दिग्गज गेंदबाजों के खिलाफ विस्फोटक बल्लेबाजी का प्रदर्शन करके पूरे दुनिया में अपनी लोकप्रियता बढ़ा ली

हालांकि अगले साल 2019 के क्रिकेट वर्ल्ड कप की टीम में पंत का नाम नहीं आया और यह is विकेट कीपर के लिए बड़ा झटका था, लेकिन फिर शिखर धवन की चोट के कारण उन्हें इंग्लैंड भेज दिया गया.. फिर 2019 में एम एस धोनी के जाते ही ऋषभ पंत को टीम इंडिया लगातार मौका देने लगी.. और पंत भारत के विकेटकीपर के रूप में पहली पसंद बन गए.. यहां से वह भारत के अहम हिस्सा बन गए साल 2021 के ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर ऋषभ पंत ने पहले सिडनी के टेस्ट मैच में भारत को हारने से बचाया और फिर उसी सीरीज में ब्रिसबेन में एक ऐतिहासिक जीत दिलाकर ऑस्ट्रेलिया को उन्हीं के घर में हराने में अपनी अहम भूमिका निभाई.. और देखते ही देखते ऋषभ पंत सभी के दिलों में घर करने लगे.. उधर आईपीएल में भी पंत का कद साल दर साल बढ़ता गया और उन्हें दिल्ली कैपिटल्स की कमान भी मिली.. और बतौर कप्तान अपने पहले ही सीजन में उन्होंने कैपिटल्स को प्लेऑफ तक का सफर तय कराया.. पंत का विस्फोटक अंदाज कई क्रिकेट फैंस को काफी पसंद आने लगा लेकिन कभी-कभी खराब शॉट खेलकर आउट हो जाने से पंत को काफी आलोचनाओं का भी शिकार होना पड़ा है.. लेकिन सिर्फ 4 साल के छोटे अंतरराष्ट्रीय करियर में ही ऋषभ पंत ने कई दिग्गजों को पीछे छोड़ दिया है…जहां भारत में श्रीलंका के खिलाफ हुई टेस्ट सीरीज में ऋषभ पंत ने कपिल देव का 40 साल पुराना वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ कर काफी सुर्खियां बटोरी थी.. क्यूंकि तब ऋषभ टेस्ट मैचों में भारत के लिए सबसे तेज अर्धशतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए थे वही आज एक बार फिर ऋषभ पंत का धमाल क्रिकेट खेल पर देखने को मिला है और इस बार तो भारत नहीं बल्कि इंग्लैंड जैसी मुश्किल परिस्थितियों में जाकर mahaj 24 साल के इस युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपनी बल्लेबाजी से तहलका मचाया है.. पहले बर्मिंघम में भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही ऐतिहासिक टेस्ट मैच के पहले दिन ही ऋषभ पंत ने अपने अंदाज में शतक ठोक कर एक साथ कई रिकॉर्ड की झड़ी लगा दी थी.. वहाँ केवल 89 गेंदों में शतक जड़ भारत के लिए बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज सबसे तेज टेस्ट शतक लगाने का रिकॉर्ड ऋषभ ने अपने नाम किया था इसके अलावा एक कैलेंडर ईयर में एशिया के बाहर दो शतक ठोकने वाले ऋषभ पंत भारत के एकमात्र विकेटकीपर बल्लेबाज बने थे और इसके अलावा बर्मिंघम के मैदान पर इतने सालों के टेस्ट इतिहास में सबसे तेज शतक जड़ने वाले ऋषभ पंत दुनिया के इकलौते बल्लेबाज बने थे.

और अब Manchester में ऐतिहासिक पारी खेल ऋषभ पंत ने क्रिकेट जगत में सुर्खियां बटोर ली है और एक बार फिर से इस होनहार खिलाड़ी ने पूरे भारत का दिल जीत लिया है…आपको बता दें ऋषभ पंत odi series के decider मैच में 113 गेंदों में 125 नाबाद बनाकर न केवल अपने ओडीआई करियर का पहला शतक जड़ा.. ब्लकि बतौर विकेटकीपर अपना पहला एकदिवसीय शतक एशिया के बाहर जड़ने वाले केवल पहले भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज भी बने.. और साथ ही साथ ऐसी निर्णायक मुकाबलों में मैच विनिंग पारी खेलने का करिश्मा यहां भी जारी रखा है और अब ऋषभ पंत टेस्ट के बाद ओडीआई में भी बड़े मैच के बड़े खिलाड़ी बनकर सामने आए हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here