8 विकेट लिया,मैन ऑफ़ द मैच बने कुलदीप फिर भी हुआ अन्याय,फूटा गावस्कर का गुस्सा

0
1520

अगर कोई किसी मुकाबले में प्लेयर ऑफ द मैच बनता हैं लेकिन वह टीम इंडिया के लिए खेलता है तो आपको उसके अगले ही मुकाबले में बाहर बैठा दिया जाता है. कुछ ऐसा ही हाल हुआ है भारत के इकलौते चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) के साथ .लगभग डेढ़ साल बाद इस खिलाड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में वापसी की और पहली पारी में पांच समेत कुल आठ विकेट झटके इतना ही नहीं बल्ले से भी इस खिलाड़ी ने 40 उपयोगी रन बनाए.

जहां कॉन्बिनेशन के नाम पर बाहर करने की नौबत आई एक बार फिर डर्टी politics का शिकार हुए कुलदीप यादव… जिसके बाद ट्विटर से लेकर हर एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कुलदीप यादव के समर्थन में फैन्स उमड़ पड़े और कप्तान केएल राहुल समेत पूरी टीम मैनेजमेंट की धज्जियां उड़ा कर रख दी गई.

बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट मुकाबले से पहले जैसे ही कुलदीप यादव को प्लेइंग इलेवन से बाहर करने की खबर की जानकारी मिली, हर कोई टीम मैनेजमेंट की इस अजीबोगरीब फैसले से हैरान रह गया.. टॉस पर कप्तान केएल राहुल ने एक नया तर्क रखते हुए माना कि विकेट पर घास होने की वजह से भारत को तीन तेज गेंदबाजों की दरकार थी इसके वजह से दुर्भाग्यवश कुलदीप यादव को बाहर बैठना पड़ा है.

लेकिन यह तर्क सबके समझ के परे है. क्यूंकि अगर भारतीय कप्तान 12 साल बाद टेस्ट क्रिकेट में उनादकट की वापसी करवाना चाह रहे थे तो उसके लिए गाज पिछले मुकाबले के प्लेयर ऑफ द मैच पर नहीं ब्लकि एक नन परफॉर्मर के ऊपर गिरनी चाहिए थी. पर यही भारतीय क्रिकेट का दुर्भाग्य है कि मौजूदा समय में गंदी राजनीति का शिकार होकर कई खिलाड़ी अच्छा परफॉर्म करने के बावजूद टीम से बाहर होते हैं वही नाम और सीनियर खिलाड़ी कहलाने की वजह से उनकी जगह पहले से सेक्योर रहती है.

और फिर ट्विटर पर हर कोई बीसीसीआई से लेकर टीम मैनेजमेंट के ऊपर अपना गुस्सा जाहिर करता है.. इस बार भी कुलदीप यादव के बाहर होने के बाद क्रिकेट एक्सपर्ट से लेकर फैंसी सभी भड़के हुए नजर आए और जैसे संजू सैमसन के लिए आवाज उठती थी अब उस लिस्ट में कुलदीप यादव के रूप में एक नया नाम जुड़ा है.. जहां जस्टिस फॉर कुलदीप यादव करके एक नया ट्रेंड भी शुरू हो चुका है.

वहीं सुनील गावस्कर ने इस निर्णय को “अविश्वसनीय” बताते हुए कहा, “मैन ऑफ द मैच को ड्रॉप करना, ये अविश्वसनीय है। यही एकमात्र शब्द है जिसका मैं उपयोग कर सकता हूं और ये एक कोमल शब्द है। मैं काफी कड़े शब्दों का इस्तेमाल करना चाहूंगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here